User-agent: * Crawl - Delay : 20 Sitemap: https://lyricsolution.com/sitemap_index.xml KISI ROZ LYRICS - Auron Mein Kahan Dum Tha » Lyricsolution
hindi lyrics

KISI ROZ LYRICS – Auron Mein Kahan Dum Tha

Kisi Roz Lyrics

Kisi Roz
Kisi Roz
Kisi Roz
Kisi Roz

Kisi Roz Baras
Jal Thal Karde
Na Aur Sata
Oh Sahib Ji

Main Yugon Yugon Ki
Trishna Hoon
Tu Meri Ghata
Oh Sahib Ji

Main Yugon Yugon Ki
Trishna Hoon
Tu Meri Ghata
Oh Sahib Ji

Kisi Roz
Kisi Roz Baras
Jal Thal Karde
Na Aur Sata
Oh Sahib Ji

Patthar Jag Mein
Kaanch Ke Lamhein
Kaise Sahejun
Samajh Na Aaye

Tere Mere Beech Mein
Jo Hai
Gyaani Jag Yeh
Jaan Na Paaye

Tann Mein Teri Chhuvan Talashun
Mann Mein Tere Chhaap Piya
Bhaap Ke Jaise Pal Ud Jaaye
Preet Ko Hain Shraap Piya

Kaise Rokun Jal Anjuri Mein
Bhed Bata Oh Sahib Ji

Kisi Roz
Kisi Roz

Kisi Roz Baras
Jal Thal Karde
Na Aur Sata
Oh Sahib Ji

Main Yugon Yugon Ki
Trishna Hoon
Tu Meri Ghata
Oh Sahib Ji

Kisi Roz Baras
Jal Thal Karde
Na Aur Sata
Oooo… Sahib Ji

Written by:
Manoj Muntashir

किसी रोज़ Lyrics In Hindi

किसी रोज़
किसी रोज़
किसी रोज़
किसी रोज़

किसी रोज़ बरस
जल थल कर दे
ना और सता
ओ साहिब जी

मैं युगों युगों की
त्रिश्ना हूँ
तू मेरी घटा
ओ साहिब जी

मैं युगों युगों की
त्रिश्ना हूँ
तू मेरी घटा
ओ साहिब जी

किसी रोज़
किसी रोज़ बरस
जल थल कर दे
ना और सता
ओ साहिब जी

पत्थर जग में
कांच के लम्हे
कैसे सहेजूँ
समझ न आए

तेरे मेरे बीच में
जो है
ज्ञानी जग ये
जान न पाए

तन में तेरी छुवन तलाशूँ
मन में तेरी छाप पिया
भाप के जैसे पल उड़ जाए
प्रीत को है श्राप पिया

कैसे रोकूँ जल अंजुरी में
भेद बता ओ साहिब जी

किसी रोज़
किसी रोज़

किसी रोज़ बरस
जल थल कर दे
ना और सता
ओ साहिब जी

मैं युगों युगों की
त्रिश्ना हूँ
तू मेरी घटा
ओ साहिब जी

किसी रोज़ बरस
जल थल कर दे
ना और सता
ओ साहिब जी

गीतकार:
Manoj Muntashir

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close