hindi lyrics

MUSAFIR LYRICS – Jubin Nautiyal

Musafir Lyrics

Aasmaan Ghar Hai Tera
Zameen Bistar Hai Tera
Musafir Jayega Kahan

Aasmaan Ghar Hai Tera
Zameen Bistar Hai Tera
Musafir Jayega Kahan

Khinche Taqdeer Tujhe
Sujhe Na Bheed Tujhe
Musafir Jayega Kahan

Ho Aasmaan Ghar Hai Tera
Zameen Bistar Hai Tera
Musafir Jayega Kahan

Khinche Taqdeer Tujhe
Sujhe Na Bheed Tujhe
Musafir Jayega Kahan

Khwabon Mein Tarashe
Neendon Mein Gine
Rasta Hi Na Samjhe
To Manzil Kya Chune

Khwabon Mein Tarashe
Neendon Mein Gine
Rasta Hi Na Samjhe
To Manzil Kya Chune

Khudi Se Yun Juda Hue
Khudi Khuda Hue
Khudi Se Yun Juda Hue
Khudi Khuda Hue

Aasmaan Ghar Hai Tera
Zameen Bistar Hai Tera
Musafir Jayega Kahan

Khinche Taqdeer Tujhe
Sujhe Na Bheed Tujhe
Musafir Jayega Kahan

Aasmaan Ghar Hai Tera
Zameen Bistar Hai Tera
Musafir Jayega Kahan

Written by:
Arko

मुसाफ़िर Lyrics In Hindi

आसमान घर है तेरा
ज़मीन बिस्तर है तेरा
मुसाफिर जायेगा कहाँ

आसमान घर है तेरा
ज़मीन बिस्तर है तेरा
मुसाफिर जायेगा कहाँ

खींचे तक़दीर तुझे
सूझे न भीड़ तुझे
मुसाफिर जायेगा कहाँ

हो आसमान घर है तेरा
ज़मीन बिस्तर है तेरा
मुसाफिर जायेगा कहाँ

खींचे तक़दीर तुझे
सूझे न भीड़ तुझे
मुसाफिर जायेगा कहाँ

ख़्वाबों में तराशे
नींदों में गिने
रास्ता ही न समझे
तो मंज़िल क्या चुने

ख़्वाबों में तराशे
नींदों में गिने
रास्ता ही न समझे
तो मंज़िल क्या चुने

ख़ुदी से यूँ जुदा हुए
ख़ुदी ख़ुदा हुए
ख़ुदी से यूँ जुदा हुए
ख़ुदी ख़ुदा हुए

आसमान घर है तेरा
ज़मीन बिस्तर है तेरा
मुसाफिर जायेगा कहाँ

खींचे तक़दीर तुझे
सूझे न भीड़ तुझे
मुसाफिर जायेगा कहाँ

आसमान घर है तेरा
ज़मीन बिस्तर है तेरा
मुसाफिर जायेगा कहाँ

गीतकार:
Arko

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
Close
Close